भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

गुरुवार, 16 जून 2011

छात्रों द्वारा उत्तर प्रदेश में छात्र आन्दोलन को बहाल करने का फैसला


लखनऊ 14 जून। देश के सबसे पुराने संगठन - एआईएसएफ की एक राज्य स्तरीय विद्यार्थी कैडर बैठक यहां सम्पन्न हुई जिसमें प्रदेश के सभी हिस्सों से सभी प्रमुख शिक्षा संस्थानों का प्रतिनिधित्व करते हुए छात्रों ने भाग लिया।

बैठक को सम्बोधित करते हुए एआईएसएफ के महासचिव अभय टकसाल ने एआईएसएफ के गौरवपूर्ण इतिहास का स्मरण करते हुए छात्र आन्दोलन के वर्तमान संकटों पर विस्तार से प्रकाष डाला। उन्होंने उत्तर प्रदेष के छात्रों का आह्वान किया कि वे आगे आयें और प्रदेष में एक मजबूत एवं जुझारू एआईएसएफ का निर्माण करें तथा उत्तर प्रदेष के छात्र आन्दोलन को अन्य राज्यों के छात्र आन्दोलनों से जोड़ें।

बैठक को सम्बोधित करते हुए भाकपा राज्य सचिव तथा एआईएसएफ के पूर्व नेता डा. गिरीष ने कहा कि अस्सी के दषक तक छात्र राजनीति में पिस्तौल और बमों की कोई जगह नहीं थी। छात्र आन्दोलन पर मजबूत एआईएसएफ का कब्जा था जिसका नारा है - षिक्षा और संघर्ष। बाद में पूंजीवादी ताकतें कैम्पस को प्रदूषित करने की अपनी साजिश में कामयाब रहीं जिसका दुष्परिणाम यह हुआ कि छात्रों ने छात्र आन्दोलन से किनारा कर लिया। उसके बाद केन्द्र एवं राज्यों की सत्ता में आयीं सरकारें शिक्षा का बाजारीकरण करने में सफल रहीं क्योंकि शैक्षिक संस्थाओं में कोई विरोध के स्वर मुखर नहीं हो सके। उन्होंने प्रदेश में एआईएसएफ के बैनर के नीचे एक मजबूत छात्र आन्दोलन की आवश्यकता पर बल दिया।

बैठक में उपस्थित 7 छात्रों ने चर्चा में भाग लेते हुए परिसरों में महसूस की गयी परेशानियों की चर्चा की। उन्होंने राज्य में मजबूत छात्र आन्दोलन की कमी को गंभीरता से महसूस किया।

बैठक ने राज्य में एआईएसएफ को गठित करने के लिए एक तदर्थ समिति का गठन किया तथा पूरे राज्य में एआईएसएफ को गठित करने तथा उसे मजबूत करने के लिए रणनीति बनाने के लिए जुलाई में पुनः एकत्रित होने का फैसला लिया। अगली बैठक में एआईएसएफ की प्लेटिनियम जुबली समारोह को लखनऊ के ऐतिहासिक गंगा प्रसाद मिमोरियल हॉल (जहां पं. जवाहर लाल नेहरू की अध्यक्षता में एआईएसएफ का स्थापना सम्मेलन सन 1936 में हुआ था) आयोजित करने पर भी विचार किया जायेगा।

बैठक को सत्तर के दशक में एआईएसएफ के नेता रहे मजदूर नेता अरविन्द राज स्वरूप, वामपंथी पत्रकार प्रदीप तिवारी तथा एप्सो के महासचिव डा. आनन्द तिवारी ने भी सम्बोधित किया।

इस अवसर पर एआईएसएफ की प्रांतीय ईकाई का ब्लॉग भी जारी किया गया जिसका पता है:
http://aisfup.blogspot.com/
»»  read more

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य