भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

सोमवार, 14 जून 2010

जिंदगी

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
थान खद्दर के लपेटे स्वार्थियों को,
पेट-पूजा की कमाई में जुता मैं देखता हूँ!
सत्य के जारज सुतों को,
लंदनी गौरांग प्रभु की,
लीक चलते देखता हूँ!
डालरी साम्राज्यवादी मौत-घर में,
आँख मूँदे डाँस करते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
मैं अहिंसा के निहत्थे हाथियों को,
पीठ पर बम बोझ लादे देखता हूँ।
देव कुल के किन्नरों को,
मंत्रियों का साज साजे,
देश की जन-शक्तियों का,
खून पीते देखता हूँ,
क्रांति गाते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
राजनीतिक धर्मराजों को जुएँ में,
द्रोपदी को हारते मैं देखता हूँ!
ज्ञान के सब सूरजों को,
अर्थ के पैशाचिकों से,
रोशनी को माँगते मैं देखता हूँ!
योजनाओं के शिखंडी सूरमों को,
तेग अपनी तोड़ते मैं देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
खाद्य मंत्री को हमेशा शूल बोते देखता हूँ
भुखमरी को जन्म देते,
वन-महोत्सव को मनाते देखता हूँ!
लौह-नर के वृद्ध वपु से,
दण्ड के दानव निकलते देखता हूँ!
व्यक्ति की स्वाधीनता पर गाज गिरते देखता हूँ!
देश के अभिमन्युयों को कैद होते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
मुक्त लहरों की प्रगति पर,
जन-सुरक्षा के बहाने,
रोक लगाते देखता हूँ!
चीन की दीवार उठते देखता हूँ!
क्राँतिकारी लेखनी को,
जेल जाते देखता हूँ!
लपलपाती आग के भी,
ओंठ सिलते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
राष्ट्र-जल में कागजी, छवि-यान बहता देखता हूँ,
तीर पर मल्लाह बैठे और हँसते देखता हूँ!
योजनाओं के फरिश्तों को गगन से भूमि आते,
और गोबर चोंथ पर सानंद बैठे,
मौन-मन बंशी बजाते, गीत गाते,
मृग मरीची कामिनी से प्यार करते देखता हूँ!
शून्य शब्दों के हवाई फैर करते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
बूचड़ों के न्याय-घर में,
लोकशाही के करोड़ों राम-सीता,
मूक पशुओं की तरह बलिदान होते देखता हूँ!
वीर तेलंगानवों पर मृत्यु के चाबुक चटकते देखता हूँ!
क्रांति की कल्लोलिनी पर घात होते देखता हूँ!
वीर माता के हृदय के शक्ति-पय को
शून्य में रोते विलपते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
नामधारी त्यागियों को,
मैं धुएँ के वस्त्र पहने,
मृत्यु का घंटा बजाते देखता हूँ!
स्वर्ण मुद्रा की चढ़ौती भेंट लेते,
राजगुरुओं को, मुनाफाखोर को आशीष देते,
सौ तरह के कमकरों को दुष्ट कह कर,
शाप देते प्राण लेते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
कौंसिलों में कठपुतलियों को भटकते,
राजनीतिक चाल चलते,
रेत के कानून के रस्से बनाते देखता हूँ!
वायुयानों की उड़ानों की तरह तकरीर करते,
झूठ का लम्बा बड़ा इतिहास गढ़ते,
गोखुरों से सिंधु भरते,
देश-द्रोही रावणों को राम भजते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
नाश के वैतालिकों को
संविधानी शासनालय को सभा में
दंड की डौड़ी बजाते देखता हूँ!
कंस की प्रतिमूर्तियों को,
मुन्ड मालाएँ बनाते देखता हूँ!
काल भैरव के सहोदर भाइयों को,
रक्त की धारा बहाते देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
व्यास मुनि को धूप में रिक्शा चलाते,
भीम, अर्जुन को गधे का बोझ ढोते देखता हूँ!
सत्य के हरिचंद को अन्याय-घर में,
झूठ की देते गवाही देखता हूँ!
द्रोपदी को और शैव्या को, शची को,
रूप की दूकान खोले,
लाज को दो-दो टके में बेचते मैं देखता हूँ!!

देश की छाती दरकते देखता हूँ!
मैं बहुत उत्तप्त होकर
भीम के बल और अर्जुन की प्रतिज्ञा से ललक कर,
क्रांतिकारी शक्ति का तूफान बन कर,
शूरवीरों की शहादत का हथौड़ा हाथ लेकर,
श्रृंखलाएँ तोड़ता हूँ
जिन्दगी को मुक्त करता हूँ नरक से!!

(कविता संग्रह, ”कहें केदार खरी खरी“ से)
- केदार नाथ अग्रवाल
»»  read more

Rajiv had a role in Anderson's escape: Bardhan

Trading Market reported today as under :

Hyderabad, Jun 13, 2010 (Asia Pulse Data Source via COMTEX) --
Alleging that the then Prime Minister of India Rajiv Gandhi had a role in ensuring "safe passage" of Union Carbide chief Warren Anderson out of the country soon after the 1984 Bhopal gas tragedy, Communist Party of India (CPI) on Saturday said Congress would have to pay a price for it.
"As the head of the central government in 1986, Rajiv Gandhi too had a role in facilitating the escape of Anderson.
Congress will have to pay a price for it," he said addressing the inaugural session of CPI's three-day National Council meet here this evening.
Referring to Left Front's poor performance in recent civic polls in India's eastern state of West Bengal, the CPI general secretary said it was time for a serious introspection by Left parties.
»»  read more

Corrruption, price-rise hallmark of UPA-II: CPI

India today reported today as under :
Terming corruption and sharp rise in the prices of essential commodities as the hallmarks of UPA-II, the Communist Party of India (CPI) has accused Prime Minister Manmohan Singh of being unable to take effective steps to control the situation.
"There is one minister A Raja, whose corruption is known to everybody. But the prime minister does not have the right to remove him. Similar is the case with the IPL in which several Union ministers, be it Sharad Pawar or Praful Patel, are facing charges but the prime minister did not take any action," CPI National Council Secretary Shameem Faizee told reporters.
"The hallmark of the one-year of UPA-II is not only corruption but the miseries heaped on the people in the form of ever-increasing prices," he said.
Briefing reporters on the deliberations of the party's ongoing National Council meeting in Hyderabad, he said, it adopted three resolutions on food security and price rise, entry of foreign universities and on the problems of Sri Lankan Tamils.
"The National Council of CPI condemns the government for its failure in controlling the prices and totally depending upon the market forces in managing food economy and moderating inflation," he said.
Reiterating the party's demand for making PDS a universal scheme, he said financial constraints can never be an argument for denying the basic needs of the masses.
"The proposed Right to Food Act should be redrafted, which should meet the nutritional requirements and availability of food grains," the resolution said.
The National Council hopes that the newly-constituted National Advisory Council headed by Sonia Gandhi would be sensitive to the sufferings of the people, it said.
Condemning the move to allow "so-called" foreign universities into India, a resolution alleged that the said institutions lack any appreciable recognition or credibility in their own countries.
Another resolution on the plight of Sri Lankan Tamils said the Centre must impress the island nation's government to dismantle the refugee camps and allow the Tamil civilians to return to their places of choice.
Alleging that the Sri Lankan government is not providing access to the media, the CPI demanded that the restrictions on media be lifted.
Replying to a query, Faizee said the CPI is concerned over the poor performance of the Left in the recent civic polls in West Bengal and that it was suggesting certain remedial measures to salvage the situation.
Meanwhile, the CPI-affiliated All India Kisan Sabha (AIKS) demanded that the Minimum Support Price (MSP) for various agricultural products be determined on the basis of the recommendations made by M S Swaminathan committee.
»»  read more

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य