भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

शनिवार, 3 सितंबर 2011

भाकपा द्वारा दलित ग्राम प्रधान कामरेड सरजू प्रसाद कठेरिया की हत्या की भर्त्सना


लखनऊ 3 सितम्बर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव डा. गिरीश ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया है कि वह सामंती एवं गुण्डा तत्वों के हाथ में खेल रही है और दलितों की रक्षा करने में पूरी तरह विफल रही है।
डा. गिरीश ने उपर्युक्त आरोप लगाते हुए बताया है कि आज ही पूर्वान्ह जनपद रमाबाई नगर (कानपुर देहात) के थाना रूरा अंतर्गत ग्राम बनीपारा महराज के ग्राम प्रधान कामरेड सरजू प्रसाद कठेरिया की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई। हत्यारे गांव के ही सामंती गुंडे हैं जो कामरेड सरजू प्रसाद द्वारा कराये जा रहे विकास कार्यों से बहुत ईर्ष्या रखते थे।
कामरेड सरजू प्रसाद जोकि भाकपा की जनपद रमाबाईनगर जिला कमेटी के सह सचिव एवं भारतीय खेत मजदूर यूनियन के जिला सचिव थे, अपनी लोकप्रियता के कारण गत चुनावों में ग्राम प्रधान चुने गये थे। जनहित में उनके द्वारा किये जा रहे संघर्षों और ग्राम पंचायत अंतर्गत कराये जा रहे विकास कार्यों से गांव के ही सामंती और गुंडा तत्व बौखलाये हुये थे और उनको लगातार जान से मारने की धमकियां दे रहे थे।
कामरेड सरजू प्रसाद एवं जनपद की भाकपा ने बार-बार पुलिस अधिकारियों यहां तक कि आई.जी. कानपुर तक को सारे मामले की लिखित जानकारियां दीं और ज्ञापन दिये थे लेकिन पुलिस ने न तो गुंडा तत्वों के खिलाफ कोई कार्यवाही की और न कामरेड सरजू प्रसाद की सुरक्षा में कोई कदम उठाया। फलतः आज इन तत्वों ने दिन-दहाड़े कामरेड सरजू प्रसाद को गोलियों और बमों से उस समय भून डाला जब वे गांव के ही स्कूल में निर्माण कार्य की देखरेख कर रहे थे। इस घटना से समूचे इलाके में सनसनी फैल गई है और आक्रोशित खेत मजदूर, किसान और भाकपा कार्यकर्ता गांव में बड़ी संख्या में एकत्रित हो गये हैं।
भाकपा राज्य सचिव डा. गिरीश ने राज्य सरकार से मांग की है कि वह दोषी अधिकारियों के खिलाफ तत्काल कड़ी कार्यवाही करे, मृतक परिवार को रू. 10.00लाख मुआवजा तथा उसके आश्रितों को नौकरी की घोषणा करे और सबसे ज्यादा जरूरी है कि हत्यारों और उनको शरण देने वालों को जल्द से जल्द जेल के सीखचों के पीछे पहुंचा कर कड़ी से कड़ी सजा दिलाये।

»»  read more

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य