भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

मंगलवार, 21 जुलाई 2009

झंडा गीत

मजलूमों ने मुल्कों-मुल्कों अब झंडा लाल उठाया है
जो भूखा था जो नंगा था अब गुस्सा उसको आया है।
रोके तो कोई हमको जरा सारा संसार हमारा है
सारा संसार हमारा है, सारा संसार हमारा है।

हम मेहनत से मजदूरी से धन-दौलत पैदा करते है,
फिर लाठी गोली खाते है और उल्टे भून्खो मरते है।
हो ऐसा चौपट राज ख़तम, सारा संसार हमारा है,
सारा संसार हमारा है, सारा संसार हमारा है।

तामीरे है खैराते है और तीरथ हज भी होते है
यूँ खून के धब्बे दमन से ये दौलत वाले धोते है।
हम दान के टुकड़े खाएं क्यो, सारा संसार हमारा है,
सारा संसार हमारा है, सारा संसार हमारा है।

हम दुनिया नई बनायेंगे, हम बस्ती नई बसायेंगे,
पूंजीपतियों, सामंतों को सब मिल मार भगायेंगे।
क्यों जनता राज न हो कायम सारा संसार हमारा है,
सारा संसार हमारा है, सारा संसार हमारा है।

1 comments:

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य