भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

मंगलवार, 16 जून 2020

पेट्रोल डीजल की मूल्य व्रद्धि एवं आम जनता के अन्य ज्वलंत सवालों पर उत्तर प्रदेश में प्रतिरोध आयोजित करेगी भाकपा


लगातार 10वें दिन पेट्रोल डीजल की मूल्यव्रद्धि की भाकपा ने निन्दा की

यूपी में 18 से 20 जून तक चलाया जायेगा प्रतिरोध अभियान

जनता की इस लूट के खिलाफ जनता से आवाज उठाने का किया आह्वान

लखनऊ- 16 जून 2020, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, उत्तर प्रदेश के राज्य सचिव मण्डल ने पेट्रोल और डीजल के दामों में 10 दिन से लगातार की जारही व्रद्धि को जनता की लूट बताते हुये इसकी कठोरतम शब्दों में निंदा की है। ऐसे समय में जबकि दुनियां में कच्चे तेल की कीमतें गिरती रही हैं, इन कीमतों में बढ़ोत्तरी किसी भी औचित्य से परे है।
यहां जारी एक प्रेस बयान में भाकपा राज्य सचिव डा॰ गिरीश ने बताया कि भाकपा के केन्द्रीय सचिव मण्डल ने भी इस सवाल को बहुत गंभीरता से लिया है और पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता से इस पर 20 जून को कड़ा प्रतिरोध जताने का आह्वान किया है। 
भाकपा राज्य सचिव मण्डल ने कहा कि आज भी तेल उत्पादक कंपनियों ने पेट्रोल पर 47 और डीजल पर 57 पैसे प्रति लीटर कीमतें बढ़ाई हैं। पिछले 10 दिनों में दोनों पर अलग अलग कुल 5 रुपये प्रति लीटर की व्रद्धि की जा चुकी है। जब से प्रतिदिन कीमतें तय करने की व्यवस्था लागू की गयी है तबसे किन्हीं 10 दिनों में यह सबसे बढ़ी व्रद्धि है। इन व्रद्धियों से यूपी में पेट्रोल लगभग 80 और डीजल 70 रुपये प्रति लीटर के आसपास जा पहुंचा है।
निश्चय ही इन व्रद्धियों से सभी वस्तुओं की कीमतों और यात्रा व्यय में इजाफा होगा। उपभोक्ता पहले से ही गैस, बिजली आदि की महंगाई और खाली जेबों के संकट को झेल रहे हैं। कोरोना को रोकने के लिये किए गये लाक डाउन से तहस नहस हुयी अर्थव्यवस्था को भी और अधिक हानि उठानी होगी।
भाकपा मांग करती है कि पेट्रोल, डीजल के लिये पहले वाली मूल्य नियंत्रण प्रणाली लागू की जाये ताकि आमजनों को मौजूदा सरकार द्वारा लागू की गयी नीतियों के तहत तेल उत्पादक कंपनियों की लूट से बचाया जासके।
भाकपा राज्य सचिव मण्डल ने कीमतों में इन व्रद्धियों के विरुद्ध 3 दिवसीय प्रतिरोध अभियान चलाने का निर्णय लिया है। यह प्रतिरोध 18 जून से 20 जून तक जारी रहेगा। 18 व 19 जून को ब्रांच/ ब्लाक/ तहसील स्तर पर और 20 जून को जिला स्तर पर प्रतिरोध दर्ज कराया जायेगा।
प्रतिरोध अभियान में प्रवासी मजदूरों, मजदूरों, किसानों, नौजवानों, महिलाओं, अल्पसंख्यकों और दलितों के उन सभी सवालों को भी उठाया जायेगा जिन्हें उत्तर प्रदेश में भाकपा लगातार उठा रही है।
भाकपा ने आम जनता से भी अपील की कि वह भाकपा द्वारा किये जाने वाले प्रतिरोध प्रदर्शनों का हिस्सा बनें।
डा॰ गिरीश, राज्य सचिव
भाकपा,  उत्तर प्रदेश

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य