भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

मंगलवार, 1 अक्तूबर 2019

Campaigns of CPI and Left



भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, उत्तर प्रदेश का आह्वान
जनहित में चलाये जायें व्यापक अभियान

लखनऊ- 1 अक्तूबर 2019, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव मण्डल ने  भाकपा की सभी जिला इकाइयों का आह्वान किया है कि वे निम्न कार्यक्रमों को सफल बनाने हेतु तत्काल तैयारी करें।
वामपंथी दलों का राष्ट्रव्यापी अभियान-
गहराते आर्थिक संकट और जनता की बढ़ती कठिनाइयों के विरूध्द वामपंथी दलों ने सारे देश में 10 से 16 अक्तूबर 2019 तक प्रतिरोध दर्ज कराने का निर्णय लिया है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की विगत दिनों संपन्न राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक ने इसे सफल बनाने का आह्वान किया है। अभियान के अंतर्गत निम्न मांगें प्रमुख रूप से उठायी जायेंगी।
·         रोजगार पैदा करने को सार्वजनिक निवेश बढ़ाया जाये। जब तक ऐसा नहीं होता तब तक नौजवानों को बेरोजगारी भत्ता दिया जाये।
·         आर्थिक मंदी से उबरने के नाम पर कारपोरेट्स को एक के बाद एक दिये जारहे आर्थिक पैकेजों को निरस्त कर उस धनराशि को जनता की क्रय शक्ति बढ़ाने में लगाया जाये।
·         श्रमिकों को न्यूनतम रुपये 18,000 प्रतिमाह वेतनमान सुनिश्चित किया जाये।
·         हाल ही में आर्थिक मंदी के चलते बन्द अथवा आंशिक रूप से बन्द हुये उद्योगों से बढ़ी तादाद निकाले गये श्रमिकों और कर्मचारियों के जीवनयापन के लिये सरकार द्वारा जीवनयापन लायक मासिक वेतन देना सुनिश्चित किया जाये।
·         सार्वजनिक क्षेत्र का निजीकरण कतई बन्द किया जाये. रक्षा उत्पादन और कोयला क्षेत्र में 100 प्रतिशत विदेशी निवेश की योजना को वापस लिया जाये। बीएसएनएल, ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज, भारतीय रेल, एयर इंडिया आदि में बड़े पैमाने पर किये जारहे निजीकरण को फौरन रद्द किया जाये।
·         निर्धारित न्यूनतम वेतन पर साल में कम से कम 200 दिन तक रोजगार देने और पिछले बकायों का भुगतान कराने हेतु मनरेगा हेतु बजट आबंटन को बढ़ाया जाये।
·         क्रषि एवं किसानों के गहरे आर्थिक संकट और उसके कारण उनकी बढ़ती आत्महत्याओं से निपटने को एकमुश्त ऋणमाफी की जाये। साथ ही फसलों का लागत से डेढ़ गुना मूल्य दिया जाना सुनिश्चित किया जाये।
·         व्रध्दावस्था और विधवा पेंशन को बढ़ा कर कम से कम 3,000 रुपये प्रतिमाह किया जाये।
नोट- उपर्युक्त अभियान को सफल बनाने हेतु जनपदों में वामपंथी दलों की बैठक बुला कर योजना बनाई जाये।

भाकपा का अभियान-
पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने सांप्रदायिक और फासीवादी शक्तियों के विरूध्द 2 अक्तूबर  ( गांधी जयंती ) से 7 नवंबर ( अक्तूबर समाजवादी क्रांति दिवस ) 2019 तक राजनैतिक और विचारधारात्मक  अभियान चलाये जाने का आह्वान किया है। इस अभियान के तहत सभाएं, गोष्ठियाँ और पदयात्राएं की जायेँ।
इस अभियान के तहत खास जगहों पर 12 अक्तूबर को कश्मीर में जनवादी अधिकारों के रौंदे जाने के खिलाफ विशिष्ट मीटिंगें आयोजित की जायेँ। 12 अक्तूबर हमारे सम्मानित नेता कामरेड अब्दुल सत्तार रंजूर की 102 वीं जयन्ती है जिनकी 1990 में कश्मीरी आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी।
आशा है समस्त जिला कमेटियाँ इन अभियानों को सफल बनाने हेतु जीजान से जुटेंगी।
डा॰ गिरीश, राज्य सचिव
भाकपा, उत्तर प्रदेश

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य