भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

शनिवार, 1 अगस्त 2020

भड़काऊ विज्ञापन पर भड़की भड़की भाकपा

डा॰ अय्यूब और अखबार की कारगुजारी निंदनीय

भाकपा ने माकूल दफाओं में कार्यवाही की मांग की

लखनऊ- 1 अगस्त 2020, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, उत्तर प्रदेश के राज्य सचिव मंडल ने पीस पार्टी के अध्यक्ष मोहम्मद अय्यूब द्वारा जारी एवं भाजपा के नजदीकी समाचार समूह के उर्दू अखबार में प्रकाशित भड़काऊ और असंवैधानिक विज्ञापन की कड़े शब्दों में निन्दा की है। पार्टी ने अय्यूब और अखबार दोनों के खिलाफ उचित दफाओं में अभियोग चलाने की मांग की है।
एक प्रेस बयान में भाकपा ने कहा कि डा॰ अय्यूब ने भड़कावेपूर्ण एवं असंवैधानिक विज्ञापन जारी किया है। इस विज्ञापन में पं॰ जवाहर लाल नेहरू, डा॰ भीमराव अंबेडकर एवं श्री राम मनोहर लोहिया के लिये भी आपत्तिजनक एवं अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया गया है। यह असहनीय और निंदनीय है।
यह और अधिक आश्चर्यजनक और आपत्तिजनक है कि इस विज्ञापन को संघ और भाजपा के अंध समर्थक समाचारपत्र समूह के उर्दू अखबार ने प्रकाशित किया है। मोहम्मद अय्यूब को गिरफ़्तार कर जेल भेजा जा चुका है, मगर अभी अखबार के विरूध्द कोई कार्यवाही नहीं की है। जबकि विज्ञापन में निहित दुर्भावना को प्रसारित और प्रचारित तो अखबारों ने ही किया है।
भाकपा ने कहा कि अय्यूब की यह कारगुजारी भाजपा के एजेंडे को ही सिंचित करती है। भाजपा निरंतर न केवल संविधान को चुनौती दे रही है अपितु धार्मिक भावनाओं को भी भड़काने की क्रियाएं कर रही है। भाजपा सरकार कानून व्यवस्था, अर्थव्यवस्था, कोरोना से निजात दिलाने, रोजगार दिलाने और गरीबों किसानों कामगारों को राहत दिलाने जैसे तमाम मुद्दों में विफल होचुकी है और इसीलिए वह इस प्रकार के कामों को अंजाम दे रही है। अय्यूब जैसों की कारगुजारी इनसे ध्यान बँटाती है और उससे भाजपा को मदद मिलती है।
भाकपा ने मोहम्मद अय्यूब पर माकूल दफ़ाएं लगाने और वैसी ही दफाओं में प्रकाशकों पर भी कार्यवाही करने की मांग की है। वरना इसे एकतरफा कार्यवाही ही माना जायेगा।
डा॰ गिरीश, राज्य सचिव
भाकपा, उत्तर प्रदेश  

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य