भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का प्रकाशन पार्टी जीवन पाक्षिक वार्षिक मूल्य : 70 रुपये; त्रैवार्षिक : 200 रुपये; आजीवन 1200 रुपये पार्टी के सभी सदस्यों, शुभचिंतको से अनुरोध है कि पार्टी जीवन का सदस्य अवश्य बने संपादक: डॉक्टर गिरीश; कार्यकारी संपादक: प्रदीप तिवारी

About The Author

Communist Party of India, U.P. State Council

Get The Latest News

Sign up to receive latest news

समर्थक

सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से अशोक मिश्र का चुनाव प्रसारण

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से अशोक मिश्र का चुनाव प्रसारण
उत्तर प्रदेश के मतदाता भाइयों और बहिनों,
उत्तर प्रदेश की 16वीं विधान सभा के लिए चुनावी महासंग्राम हो रहा है।
इस महासंग्राम में एक ओर सिद्धान्तहीन, मुद्दाविहीन नारों के साथ जातिवादी, साम्प्रदायवादी पहियों पर कारपोरेट घरानों, भ्रष्ट नवधनाढ्यों के कालेधन से चमकते-दमकते रथों पर बाहुबलियों, माफियाओं, हत्यारों, बलात्कारियों, भ्रष्टाचारियों, दलबदलुओं की फौज सजाये सत्ता के दावेदार है, जिन्होंने कई बार सत्ता की बागडोर अपने हाथों में लेकर विकास के घोड़ों को पूंजीपतियों के महलों की ओर दौड़ाया है।
दूसरी ओर किसानों, मजदूरों, महिलाओं, खेत मजदूरों, छात्रों-नौजवानों, दलितों, अल्पसंख्यचकों और प्रदेश के शोषित-पीड़ित आम जनों के भरोसे के साथ रथहीन, साधनविहीन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सिद्धान्तों और जन संघर्षों की अपार पूंजी के साथ चुनाव मैदान में है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सत्ता से ज्यादा मुद्दों और सिद्धांतों की दावेदार है।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का इस चुनाव में नारा है - भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों को ध्वस्त करो, जातिवाद और जातिवादी राजनीति को पस्त करो, गुण्डों, बाहुबलियों तथा अपराधीकरण की राजनीति को शिकस्त दो, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी तथा वाम दलों के हाथों में सत्ता का संतुलन दो।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का आपसे विनम्र अनुरोध है कि प्रदेश को कंगाल और स्वयं को मालामाल, समाज को खोखला करने वाली ताकतों को शिकस्त दें। चुनाव में विजय श्री दिलाने में नियंता बन गये फोर सी - कम्युनल, कास्ट, क्रिमिनल, कैश अर्थात साम्प्रदायिक, जातिवादी, अपराधीकरण की घिनौनी राजनीति तथा कालेधन के सहारे सत्ता सिंहासन पर पहुंचने में लगे राजनैतिक दलों, उनके दलबदलू भ्रष्ट उम्मीवारों के नापाक मंसूबों को अपने वोट की ताकत से मटियामेट कर दें।
जन-आन्दोलनों, जन-संघर्षों में तपे तपाये, अन्याय, अत्याचार, शोषण के विरूद्ध अनवरत मैदान में रहने वाले भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कर्मठ उम्मीदवारों को हंसिया और बाली के चुनाव निशान पर मत देकर विजयी बनायें।
साथियों, वर्तमान और पिछली सरकारों का रवैया सामन्ती युग के निःकृष्टतम रवैये सरीखा रहा है, महिलाओं के विरूद्ध अपराध, हत्या, बलात्कार, अपहरण, छेड़-छाड़, दहेज उत्पीड़न, दहेज हत्या, युवतियों के चेहरे पर तेजाब फेंक कर जला देने, सरे आम उन्हें निर्वस्त्र कर घुमाने जैसे काण्डों से सरकार का दागदार चेहरा और भी काला हुआ है।
दहेज हत्या और बलात्कार के मामले में उत्तर प्रदेश का देश में पहला स्थान रहा है, जो किसी भी सभ्य नागरिक, सभ्य समाज और सरकार के लिए अत्यंत शर्मनाक है, किन्तु वर्तमान और पिछली सरकार ने इस दर्दनाक और शर्मनाक स्थिति पर रंचमात्र भी रंजोगम का इजहार न करते हुये, कोई भी निरोधात्मक उपाय नहीं किये।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी समता, समानता मूलक राज्य व्यवस्था और महिलाओं के समान अधिकार तथा विधान मंडलों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण की प्रबल पक्षधर है।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ‘सबको शिक्षा, सबको काम’, ‘समान काम का समान दाम’, ‘महंगाई पर लगे लगाम, भ्रष्टाचार का हो काम तमाम’, ‘रोटी-कपड़ा और मकान, मांग रहा है हिन्दुस्तान’ के सैद्धान्तिक नारे और संघर्ष के साथ मैदान में है।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पिछली सरकार और वर्तमान सरकार के घपलों-घोटालों चाहे वह 50 हजार करोड़ का खाद्यान्न घोटाला हो, के विरूद्ध और बुन्देलखण्ड और पूर्वान्चल में कई हजार किसानों द्वारा आत्महत्या किये जाने, किसानों की बर्बादी, आम जनों की तबाही के मुद्दों को लेकर संघर्ष की अगुआ पार्टी रही है।
मित्रों, क्या प्रदेश के किसान, मजदूर, बुनकर, खेत मजदूर, गरीबी-गुरबत से तंग हो हजारों की संख्या में आत्महत्या करने पर मजबूर होते रहेंगे? क्या जनता के करो की कमाई से बने अरबों-खरबों रूपये के सरकारी कारखाने तथा किसानों की कृषि योग्य हजारों-हजार एकड़ भूमि विभिन्न प्रकार के सरकारी बहानों से मिट्टी के भाव से भी सस्ती दर पर देशी-विदेशी धन कुबेरों को बेंच कर करोड़ों का कमीशन खाते रहेंगे? क्या अरबों-खरबों के घोटाले यूं ही होने देंगें?
निश्चय ही आपका उत्तर इसके विरूद्ध होगा। यही हमारा-आपका राष्ट्र धर्म है। चुनाव में इसी धर्म को अंगीकार करते हुये आप अपना मतदान करेंगे तथा प्रदेश की डूबती नैया को कुशल मांझी की तरह किनारे लगाने के लिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवारों को हंसिया और बाली के चुनाव निशान पर मत देंगे।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी केन्द्र तथा प्रदेश सरकार की अन्यायपूर्ण, घोर जन विरोधी अर्थनीति के विरूद्ध लगातार संघर्ष कर रही है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सार्वजनिक वितरण प्रणाली को व्यापक और मजबूत बनाने, काम के अधिकार तथा आवास को मौलिक अधिकार का दर्जा दिये जाने के लिए सुसंगत संघर्ष कर रही है।
प्रदेश के अर्थतंत्र को मजबूत बनाने के लिए, सार्वजनिक क्षेत्र को मजबूत करने, लघु ग्रामीण तथा हथकरघा उद्योगों को संरक्षण देने, कृषि को उद्योग का दर्जा देकर, राष्ट्रीय कृषि नीति बनाकर किसानों और ग्रामीण जनों को संवारने के लिये भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी संघर्षरत है।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी शिक्षा मित्रों, मध्यान्ह भोजन रसोइयों, आशा बहुओं तथा आंगनबाड़ी में कार्यरत वर्कर्स की सेवाओं का नियमितीकरण एवं उचित वेतन निर्धारण की मांग को लेकर संघर्षरत है।
पार्टी वृद्धावस्था, विकलांग और विधवा पेंशन की धनराशि में वृद्धि करने, सभी पात्र जनों को मुहैया कराने तथा इसमें व्याप्त भ्रष्टाचार को समाप्त करने की लड़ाई लड़ रही है।
मित्रों, भारत के संसदीय लोकतंत्र के इतिहास में यह घोर मौका परस्ती, दलबदल और व्यक्तिवादी राजनीति का दौर है। आदर्शों, मान्य स्थापनाओं, सिद्धान्तों, वैचारिक विमर्षों, सामान्य व्यवहारिक नैतिकता तथा लोकतांत्रिक मूल्यों, मर्यादाओं का मखौल जितना आज के राजनैतिक दौर में उड़ाया जा रहा है, वैसा इसके पहले कभी नहीं हुआ। इस दुखद राष्ट्रघाती कृत्यों में पहला स्थान केन्द्र में सत्तासीन कांग्रेस और विपक्ष में बैठी भाजपा तथा प्रदेश की जातिवादी पार्टियों का है।
भ्रष्ट राजनेताओं, भ्रष्ट नौकरशाहों, महत्वाकांक्षी उद्योगपतियों, कारपोरेट घरानों, चालाक वित्त व्यवस्थापकों और तस्करों, माफिया सरगनाओं के बीच गहरे सम्बंधों के कारण, प्रदेश की आम जनता के हितों की रक्षा के बजाय, कुछ लाख व्यक्तियों, समूहों, गुटों के हितों की रक्षा की जा रही है, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और अन्य वामदल अपनी भरपूर ताकत से इनके और इनके राष्ट्रघाती कृत्यों के विरूद्ध टकरा रहे हैं। हम चाहते हैं आप हमारे साथ आयें, इस चुनाव में हम-आप मिलकर इनका मटियामेट कर दें।
देश के स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान करने वाली भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, देश के लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को कायम रखने तथा उसे मजबूत बनाने में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी अनवरत-अनथक संघर्ष में आगे रही है।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी देश के उन बीस फीसदी लोगों, जिन्होंने सत्ता संरक्षण में काली कमाई के काले धन के पहाड़ खड़े कर लिए हैं, उन पर करारी चोट करने तथा देश के अस्सी फीसदी आवाम के हितों की रक्षा के पक्ष में मतदान करने की अपील करती है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के चुनाव निशान हंसिया बाली पर मतदान करें। जन संघर्षों में तपे-तपाये भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कर्मठ, योग्य, ईमानदार प्रत्याशियों को विजयी बनायें। उत्तर प्रदेश में वामपंथ के प्रभाव में चलने वाली सरकार बनायें।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी आपका आवाहन करती है कि अन्याय, अत्याचार, शोषणकारी व्यवस्था की चूल हिला दें। लूट-भ्रष्टाचार का राज मिटा दें। जातिवादी, साम्प्रदायिक दलों और उनके मौसेरे भाइयों तथा अल्पसंख्यकों को झांसा देकर सरकार के गठन में इस्तेमाल करने का मंसूबा बनाने वाले राजनैतिक दलों के नापाक मंसूबों को खाक में मिला दें। प्रदेश की तकदीर-तस्वीर बदलने के लिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को वोट दें। हंसिया-बाली के चुनाव निशान पर मतदान करें।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी एकमात्र ऐसी पार्टी है, जिसका चुनाव निशान आज तक नहीं बदला। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का चुनाव निशान हंसिया और बाली है। मेरा आपसे विनम्र निवेदन है कि हंसिया ओर बाली चुनाव निशान पर आप अपना मतदान करें। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवारों को विजयी बनायें। जहां भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार नहीं हैं, वहां वाम मोर्चा के उम्मीदवारों के पक्ष में मतदान करें।
धन्यवाद।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

कुल पेज दृश्य